सत्ता के नशे में चूर BJP नेता ने एसपी को मारा थप्पड़, इसके बाद हुआ कुछ ऐसा कि...

यूपी के इटावा में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान हुई हिंसा और एक पुलिस अधिकारी को थप्पड़ मारने के मामले में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दो नेताओं को गिरफ्तार किया गया है। मीडिया रिपोर्टस मुताबिक, मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने 12 जुलाई की शाम दो स्थानीय BJP नेताओं विवेक चौधरी उर्फ संजू चौधरी और श्याम सिंह भदौरिया को गिरफ्तार कर लिया। इसके साथ ही एक अन्य भाजपा नेता विमल भदौरिया की तलाश की जा रही है। बताया जा रहा है कि विमल के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट समेत 9 मामले दर्ज हैं।

सत्ता के नशे में चूर BJP नेता ने एसपी को मारा थप्पड़, इसके बाद हुआ कुछ ऐसा कि...
Sarita Bhadauria and SP City

यूपी के इटावा में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान हुई हिंसा और एक पुलिस अधिकारी को थप्पड़ मारने के मामले में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दो नेताओं को गिरफ्तार किया गया है। मीडिया रिपोर्टस मुताबिक, मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने 12 जुलाई की शाम दो स्थानीय BJP नेताओं विवेक चौधरी उर्फ संजू चौधरी और श्याम सिंह भदौरिया को गिरफ्तार कर लिया। इसके साथ ही एक अन्य भाजपा नेता विमल भदौरिया की तलाश की जा रही है। बताया जा रहा है कि विमल के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट समेत 9 मामले दर्ज हैं।

आखिर क्या है पूरा मामला?

गौरतलब है कि बीते 10 जुलाई को उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए मतदान हुआ। इस दौरान कई इलाकों में हिंसा की खबरें आईं। इटावा में भी सपा और भाजपा प्रत्याशियों के बीच जमकर हंगामा हुआ। जिसके बाद इसी घटना से जुड़े दो वीडियो सोशल मीडिया पर जबर्दस्त वायरल हुए थे। इनमें यूपी पुलिस के एक एसपी प्रशांत कुमार कहते दिख रहे हैं कि हिंसा के दौरान उन्हें चांटा मारा गया और ‘BJP वाले बम लेकर आए’ थे। दूसरे वीडियो में एसपी प्रशांत कुमार भाजपा के एक विधायक और जिलाध्याक्ष से हाथ जोड़कर यह कहते दिखे थे कि वे अपने समर्थकों को पीछे हटाएं।

इस घटना के पीछे भाजपा के लोगों का नाम सामने आया है। पार्टी के स्थानीय नेता विमल भदौरिया और उनके समर्थकों पर आरोप है कि उन्होंने पुलिस बैरिकेड्स लांघकर पोलिंग स्टेशन की तरफ बढ़ने की कोशिश की थी। हिंसा के दौरान फायरिंग होने की भी बात सामने आई थी। खबरों के मुताबिक, बेकाबू भीड़ ने एसपी सिटी प्रशांत कुमार को धक्का देकर गिरा दिया। हालात कंट्रोल करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। फिर भी बात नहीं बनी तो हवाई फायरिंग भी की गई। इस बीच एक घंटे तक मतदान प्रक्रिया भी प्रभावित रही। एसपी प्रशांत कुमार का आरोप है कि इसी दौरान उन्हें थप्पड़ मारा गया। 

बता दें कि इस पुरे मामले की अब पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। इस जांच का जिम्मा जसवंतनगर के एसपी और सीओ को सौंपा गया है।