क्रिकेटर्स की वाइफ IPL मैच के दौरान लेतीं हैं ड्रग्स! रॉ के पूर्व एजेंट के खुलासे से मचा हड़कंप

वैसे भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है, लेकिन इस देश में क्रिकेट का कुछ ऐसा ओहदा है कि लोग इस खेल और इसके खिलाड़ियों को भगवान की तरह पूजते हैं। जाहिर सी बात है कि अगर किसी खेल की लोकप्रियता ज्यादा होती है, तो उस खेल का अर्थतंत्र बहुत ज्यादा मजबूत होता है और जिस खेल का अर्थतंत्र मजबूत होता है तो वहां ग्लैमर का होना स्वाभविक है।

क्रिकेटर्स की वाइफ IPL मैच के दौरान लेतीं हैं ड्रग्स! रॉ के पूर्व एजेंट के खुलासे से मचा हड़कंप
Indian Cricket Team

वैसे भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है, लेकिन इस देश में क्रिकेट का कुछ ऐसा ओहदा है कि लोग इस खेल और इसके खिलाड़ियों को भगवान की तरह पूजते हैं। जाहिर सी बात है कि अगर किसी खेल की लोकप्रियता ज्यादा होती है, तो उस खेल का अर्थतंत्र बहुत ज्यादा मजबूत होता है और जिस खेल का अर्थतंत्र मजबूत होता है तो वहां ग्लैमर का होना स्वाभविक है। इसी कड़ी में BCCI हर साल एक क्रिकेट लीग का आयोजन कराता है, जिसका नाम IPL(इंडियन प्रीमियर लीग) है। बता दें कि बीते वर्षों से IPL का विवादों से गहरा नाता रहा है। चाहे वह मैंच फिक्सिंग का मसला हो  या फिर अंडरवर्ड की मौजूदगी को लेकर हो। अब इसी कड़ी में रॉ के एक पूर्व अधिकारी का बयान पूरे क्रिकेट गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

एनके सूद का बड़ा आरोप

दरअसल, रॉ के पूर्व एजेंट से आईपीएल के संबंध में एक सवाल पूछा गया, जिसमें वह जवाब देते हुए कहते हैं कि “आईपीएल के अंदर बड़ा अंडरवर्ड का हाथ है। यहां पर क्या होता है। जब ये मैच होते है तो इनकी वाइफ वगैरह हैं वह बाथरुम के अंदर जाकर ड्रग्स वगैरह लेती हैं। ये जानकारी मुझे वहां पर मौजूद एक विटनेस ने दी थी और कुछ सामान भी भेजा था और दूसरी बात यह है कि ये आईपीएल मैच फिक्स होते हैं।”

एनके सूद आगे कहते हैं “आईपीएल के अंदर सट्टेबाजी में बंटी सजदेह हैं, जिनका रोल है कि विराट कोहली की शादी कराने का अनुष्का शर्मा के साथ ये वहीं बंटी सजदेह है, जिसकी सगी बहन की शादी रोहित शर्मा से हुई है।”

इस प्रतिक्रिया के जवाब में अब तक बीसीसीआई की तरफ से फिलहाल कोई ऑफिशियल जवाब नहीं आया है। इससे पहले भी आईपीएल को लेकर कई विवाद सामने आ चुके हैं, लेकिन इस बार एक रॉ के पूर्व अधिकारी के आरोप को लोग भी गंभीरता से ले रहे हैं और अब इस आरोप की वजह से बीसीसीआई एक बार फिर से सवालों के घेरे में गया है।