जानिए कैसे इस लड़की ने गूगल और फेसबुक जैसी कंपनियों में कमी ढूंढ कर कमाए 44 लाख रुपये!

आज के समय में अधिकतर लोग खासकर युवा वर्ग अपने समय को व्यतीत करने के लिए सोशल मीडिया में पूरा दिन निकाल देता है। वास्तविक रुप से देखा जाए तो सोशल मीडिया के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों पहलू हैं। एक तरफ जंहा लोग सोशल मीडिया को सिर्फ टाइम पास के लिए प्रयोग करते हैं, तो वही दूसरी तरफ कई लोग अपने आस-पास के समाज को जागरुक करके सोशल मीडिया से आय अर्जित करने का भी काम करते हैं।

जानिए कैसे इस लड़की ने गूगल और फेसबुक जैसी कंपनियों में कमी ढूंढ कर कमाए 44 लाख रुपये!
Aditi Singh

आज के समय में अधिकतर लोग खासकर युवा वर्ग अपने समय को व्यतीत करने के लिए सोशल मीडिया में पूरा दिन निकाल देता है। वास्तविक रुप से देखा जाए तो सोशल मीडिया के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों पहलू हैं। एक तरफ जंहा लोग सोशल मीडिया को सिर्फ टाइम पास के लिए प्रयोग करते हैं, तो वही दूसरी तरफ कई लोग अपने आस-पास के समाज को जागरुक करके सोशल मीडिया से आय अर्जित करने का भी काम करते हैं।

इसी कड़ी में आज हम आपको 20 साल की एक ऐसी लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने सोशल मीडिया के प्रमुख प्लैटफॉर्म फेसबुक और गूगल जैसी कंपनियों में खामी निकालकर व इस बारे में लोगो को बताकर अब तक करीब 44 लाख रुपयें कमा लिए हैं।

 बाउंटी किसे कहा जाता है?

अदिति सिंह एक ऐसा नाम जिन्होंने Microsoft से 22 लाख रुपये का इनाम पाकर इन दिनों हर जगह वाहवाही लूटी है। कभी डॉक्टर बनने का सपना देखने वाली अदिति अब साइबर एनालिस्ट हैं। अदिति ने अब तक कई बार बड़ी-बड़ी कंपनियों में कमी निकालकर 60,000 डॉलर यानी करीब (44 लाख रुपये) कमा लिए हैं। इस संबंध में एक न्यूज चैनेल से बात करते हुए उन्होंने बताया कि अब तक वो फेसबुक, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और टिक-टॉक सहित 40 से ज्यादा कंपनियों से इनाम पा चुकी हैं। बता दें कि यदि आप किसी भी सोशल नेटवर्किंग को उसके कुछ विकल्पों में वासत्विक कमी निलाकर उस कंपनी को अवगत कराते हैं और इस कमी को कंपनी स्वीकार कर लेती है तो ऐसी स्थिति में वह कंपनी इस कार्य के लिए इनाम के रुप में आपको कुछ धनराशी प्रदान करती है, जिसे बाउंटी कहा जाता है। गौरतलब है कि अब तक अदिति सिंह को करीब 60 हजार बांउटी मिल चुकि हैं। 

बता दें कि इससे पहले अदिति सिंह मेडिकल फिल्ड में थी, लेकिन इसमें उनका इंटरेस्ट नहीं था, जिसके बाद उन्होंने साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र के बारे में पता किया और इसको अपने कैरियर के रुप में चुन कर वो बेसिक्स हैंकिग टूल्स का यूज करने लगी। उनकी इस फिल्ड में रुची तब बढ़ गई जब उन्होंने अपने पड़ोसी के WiFi पासवर्ड को हैक कर लिया। अदिति कहती है कि उन्होंने बांउटी हंटिग पिछले साल से शुरु की है। इस दौरान उन्हें हारवर्ड युनिवर्सिटी, स्टैनफोर्ड युनिवर्सिटी, कोलंबिया युनिवर्सिटी और युनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की तरफ से आप्रिसिएशन भी मिला है।