जानें, क्यों राकेश टिकैत के इस ऐलान से खौफ में आई बीजेपी, चुनाव से जुड़ा है पूरा मामला 

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत विगत कई माह से कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। किसान आंदोलन की  अगुवाई कर रहे टिकैत केंद्र सरकार कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, मगर सरकार लगातार किसानों की मांग अब अनदेखा कर रही है।

जानें, क्यों राकेश टिकैत के इस ऐलान से खौफ में आई बीजेपी, चुनाव से जुड़ा है पूरा मामला 
Rakesh tikket

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत विगत कई माह से कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। किसान आंदोलन की  अगुवाई कर रहे टिकैत केंद्र सरकार कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, मगर सरकार लगातार किसानों की मांग अब अनदेखा कर रही है।

हालांकि, कई मौकों पर इसे लेकर सरकार व किसानों के बीच बैठक हुई है, लेकिन अब तक किसी भी प्रकार की बात बनती हुई नजर नहीं आ रही है। किसानों का भी साफ कहना है कि जब तक हमारी मांगें नहीं मान ली जाती है। तब तक हमारा यह आंदोलन यथावत जारी रहेगा। वहीं, अब जब देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में कुछ माह बाद विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। ऐसे  में आंदोलनकारी किसान अब अपने आंदोलन को धार देने में जुट चुके हैं। इस बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने चुनाव को लेकर बड़े संकेत दे दिए हैं। आइए, जानते हैं कि आखिर उन्होंने ऐसा क्या  कह दिया है, जिसे लेकर बीजेपी में खलबली मच गई है। 

राकेश टिकैत ने क्या कहा 

यहां हम आपको बताते चले कि राकेश टिकैत ने कहा कि अगर किसान भाई  भी चुनाव लड़े तो इसमें  कोई गलत नहीं है। आखिर चुनाव लड़ना सबका अधिकार है। संविधान के मुताबिक, भारत के हर नागरिक को चुनाव लड़ने का अधिकार होता है। लिहाजा, अगर हमारे किसान भाई भी चुनाव लड़े तो इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। अपने इस बयान से राकेश टिकैत ने स्पष्ट संकेत दे दिए हैं कि वे भी आगामी चुनाव में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं, चूंकि बीते कुछ माह से जिस तरह वे किसान आंदोलन का नेतृत्व करते हुए आ रहे हैं। ऐसे में अब सियासी गलियारों में इस बात को लेकर चर्चा का बाजार गरम हो चुका है कि आने वाले दिनों में राकेश टिकैत उत्तर प्रदेश चुनाव में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं।  

उन्होंने कहा कि आगमी माह सितंबर में मुजफ्फरनगर में एक बैठक होने जा रही है, जिसमें किसान नेता शामिल होंगे। इस बैठक में हम उत्तर प्रदेश व पंजाब विधाननसभा में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं। सियासी गलियारों में चर्चा इस बात को लेकर है कि जिस तरह किसान आंदोलन के दौरान पंजाब के किसानों की भागीदारी देखने को मिली है, ऐसे में पंजाब से राकेश टिकैत के चुनाव लड़ने की संभावना जताई जा रही है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति वोट दे सकता है। वो व्यक्ति वोट ले भी सकता है। यह हमारा संवैधानिक अधिकार है। खैर, ऐसे में अब जब उत्तर प्रदेश चुनाव कुछ माह का समय शेष रह गया है। ऐसे में उनका आगे क्या प्लान रहता है। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही  बताएगा। तब तक के लिए आप देश-दुनिया की हर बड़ी खबर से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए...शाइनिंग इंडिया.कॉम