प्रशांत किशोर को लेकर आई ऐसी खबर, खौफ में आ गए BJP वाले, कांग्रेस की  तो लग गई लॉटरी  

अगर आप सियासत से लगाव रखते हों तो प्रशांत किशोर के नाम से परीचित होंगी ही। सियासत के चाणक्य कहे जाने वाले प्रशांत किशोर को लेकर अभी जिस तरह की खबर सामने आ रही है, उससे बीजेपी वाले खौफ में आ चुके हैं और देश की सबसे बड़ी विपक्षी दल कांग्रेस की तो समझिए चांदी-चांदी हो गई है।

प्रशांत किशोर को लेकर आई ऐसी खबर, खौफ में आ गए BJP वाले, कांग्रेस की  तो लग गई लॉटरी  
Parshant Kishor and Rahul Gandhi

अगर आप सियासत से लगाव रखते हों तो प्रशांत किशोर के नाम से परीचित होंगी ही। सियासत के चाणक्य कहे जाने वाले प्रशांत किशोर को लेकर अभी जिस तरह की खबर सामने आ रही है, उससे बीजेपी वाले खौफ में आ चुके हैं और देश की सबसे बड़ी विपक्षी दल कांग्रेस की तो समझिए चांदी-चांदी हो गई है। दरअसल, खबर है कि प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। इस खबर के बाद से प्रशांत अपनी उस प्रतिबद्धता पर खरे उतरते नहीं दिख रहे है ,जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर ममता बनर्जी चुनाव नहीं जीत पाईं तो मैं सियासत को हमेशा-हमेशा के लिए अलविदा कह दूंगा। खैर, प्रशांत किशोर के इस हालिया रवैये से हमें ज्यादा ताज्जुब होने की दरकार नहीं है। बहुधा सियासत में ऐसा होता रहता है कि जब सियासी सूरमा अपनी कही बातों स  गुलाटी मार जाया कर जाया करते हैं। 
 
प्रशांत के हालिया रवैये से भी ऐसा ही जाहिर हो रहा है कि वो अपनी बातों से गुलाटी मारते जा रहे हैं, क्योंकि अभी हाल ही में उनकी राहुल गांधी और  सोनिया गांधी से मुलाकात हुई है। अब ऐसे में उनके इस मुलाकात को क्या नाम दे। इसे लेकर सियासी गलियारों में बहस का सिलसिला अपने चरम पर पहुंच चुका है। माना जा रहा है कि इस मुलाकात के बाद प्रशांत कांग्रेस का  दामन थाम सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो यकीन मानिए बीजेपी को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है, क्योंकि प्रशांत अपनी गजब की सियासी रणनीतियों के लिए सियासी दुनिया में सुख्यात हैं। ऐसे में कांगेस को अगर प्रशांत किशोर का साथ मिलता है, तो यकीन मानिए अपनी वजूद की लड़ाई लड़ रही कांगेस की चांदी-चांदी हो जाएगी और जिसका नकारात्मक असर सीधा बीजेपी को भुगतना पड़ सकता है। 

बता दें कि इस बैठक में राहुल गांधी, सोनिया गांधी के इतर केसी वेणुगोपाल शामिल भी हुए थें। हालांकि, बैठक में शिरकत हुए किसी भी नेता किसी भी मसले के बारे में खुलकर कुछ अपनी राय तो नहीं रखी है। अभी 
इस मुलाकात को लेकर महज कयासबाजी का ही सिलसिला ही जारी है। वहीं, इस बैठक में उत्तर प्रदेश, पंजाब समेत देश के अन्य राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई है।