ICMR की कोराना को लेकर अब तक की सबसे बड़ी चेतावनी, बताया अगस्त के अंत में....

कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप अभी कम ही नहीं हुआ है कि दूसरी तरफ कोरोना की तीसरी लहर के डर ने हड़कम्प मचा दिया है और लोग तीसरी लहर के लिए अभी से आशंकित होने लगे हैं।

ICMR की कोराना को लेकर अब तक की सबसे बड़ी चेतावनी, बताया अगस्त के अंत में....
Coronavirus

कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप अभी कम ही नहीं हुआ है कि दूसरी तरफ कोरोना की तीसरी लहर के डर ने हड़कम्प मचा दिया है और लोग तीसरी लहर के लिए अभी से आशंकित होने लगे हैं। इस बीच इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के डिविजन ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड कम्युनिकेबल डिजीज के प्रमुख डॉ. समरीन पांडा ने आंशका जाहिर की है कि अगस्त के अंत तक हिंदूस्तान में कोरोना की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है। 

इसके साथ ही डॉ पांडा ने की कोरोना संक्रमण आने की वजह के बारे में बात करते हुए कहा कि जिस भी व्यक्ति भी पहली और दूसरी लहर के दौरान इम्यूनिटी कमजोर हुई तो ऐसे लोगों के तीसरी लहर और ज्यादा घातक सिद्ध हो सकती है। इसके बाद उन्होंने वैरियंट पर बात करते हुए कहा कि यह किसी पर भी वार कर सकता है और तीसरी लहर के लिए उन राज्यों को भी जिम्मेदार ठहराया हैं जिन्होंने अनलॉक में जल्दबाजी की।  

इसके बाद डॉ गुलेरिया से एक सवाल किया गया जिसमें उनसे पूछा गया कि क्या डेल्टा प्लस वेरिएंट कोरोना की तीसरी लहर ला सकता है? इसका जवाब देते हुए डॉ ने कही कि ऐसी उम्मीद नहीं है कि डेल्टा और डेल्टा प्सल वेरिएंट तीसरी लहर पर लोगों के जीवन में कहर बरपाएगें। इससे लोगों को ज्यादा डरने की जरुरत नहीं है, बस लोग इसके लिए जागरूक रहें कि कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए क्या-क्या उपाय किए जा सकते हैं। 

बता दें कि इससे पहले डॉ गुलेरिया भी तीसरी लहर के लिए सचेत कर चुके हैं। जिसमें उन्होंने कहा था कि कोरोना की तीसरी लहर लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी के कारण आ सकती है। कोरोना के नए-नए वेरिएंट आने के बाद भी सरकारें लॉकडाउन में ढील दे रही हैं। आनें वाले दिनों में ये कोरोना की तीसरी लहर की प्रमुख वजह बन सकती है। जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना की तीसरी लहर पहले ही देश के कई राज्यों में दस्तक दे चुकी है।