बिन मौसम बरसात ने बढ़ाई किसानों की परेशानी, बर्बाद हुई फसल

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मौसम ने करवट ले ली है. जहां सुबह से ही तेज बारिश का दौर जारी हो गया. जिसके बाद से अंदाजा ये लगाया जा रहा है कि इससे किसानों की फसल बर्बाद हो गई है. बताया गया है कि भोपाल में बीते से ही मौसम का मिजाज बदलना शुरू हो गया था.

बिन मौसम बरसात ने बढ़ाई किसानों की परेशानी, बर्बाद हुई फसल

यह तो सभी जानते है कि बारिश का होना किसानों के लिए कितना जरूरी है. किसानों की फसल बढ़ाने के लिए बारिश का काफी अहम रोल होता है. लेकिन बेमौसम की बरसात किसानों के लिए कितनी घातक साबित हो सकती है इसका सीधा उदाहरण मध्य प्रदेश में देखा जा सकता है, जहां रातभर पड़ी बारिश ने किसानों की पकी फसल को बर्बाद किया है, वहीं किसानों की परेशानी बढ़ा दी है.

दरअसल मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मौसम ने करवट ले ली है. जहां सुबह से ही तेज बारिश का दौर जारी हो गया. जिसके बाद से अंदाजा ये लगाया जा रहा है कि इससे किसानों की फसल बर्बाद हो गई है. बताया गया है कि भोपाल में बीते से ही मौसम का मिजाज बदलना शुरू हो गया था. लेकिन शायद किसी ने अंदाजा नहीं लगाया था कि मौसम इस कदर बदलेगा कि पूरी रात तेज बारिश का दौर जारी रहेगा. वहीं इस पर किसानों का कहना है कि इस असमय हुई बारिश से गेहूं, चना और संतरे की फसल नष्ट हो गई है. वहीं किसानो ने सरकार से मदद करने की गुहार भी लगाई है.

कोरोना के दौरान किसानों पर मुसीबत
बता दें कि इन दिनों देश और दुनिया में कोरोना वायरस का कहर चल रहा है. दुनिया के अन्य देशों में कोरोना वायरस की वजह से लोगों की परेशानी बढ़ रही है. साथ ही साथ देशों की व्यवस्था भी चरमरा गई है. ऐसे में अन्य देशों को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन कर दिया है. ऐसे बारिश के रूप में किसानों के ऊपर गिरी मुसीबत कैसे हल होगी इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता. 

क्या है बारिश आने की वजह
बेमौसम हुई इस बरसात को लेकर मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि हवा के ऊपरी भाग में दक्षिण गुजरात और उसके आसपास के इलाके में चक्रवात बनने से यह बारिश हो रही है. विभाग के अधिकारीयों का कहना है कि इसकी एक वजह दक्षिण पूर्व राजस्थान से कर्नाटक के तटीय इलाके में द्रोणिका के बनने से बारिश हो रही है. बताया जा रहा है कि द्रोणिका गुजरात में 900 मीटर की ऊंचाई से गुजर रही है जिसके चलते बीती रात से बारिश का कहर जारी है. इस समय बारिश होने की तीसरी वजह पश्चिमी विक्षोभ के जम्मू-कश्मीर के ऊपरी इलाकों में दबाव बनाने से बारिश हो रही है. लेकिन देश के अलग-अलग राज्यों में हो रही बेमौसम इस बरसात ने किसानों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है.