UP के कई इलाकों में हिंसा से अफरातफरी का माहौल, इन इलाकों में जबरदस्त तनाव

उत्तर प्रदेश में ब्लाक प्रमुख का चुनाव संपन्न हो चुका है, लेकिन चुनाव के दौरान कई इलाकों में हिंसा देखने को मिली है। बता दें कि आज सूबे में 11 बजे से यहां की 476 क्षेत्र पंचायत की सीटों में अध्यक्ष पद के लिए मतदान होना है। इसके साथ ही यह चुनाव 1,174 उम्मीदवारों के बीच होना है।

UP के कई इलाकों में हिंसा से अफरातफरी का माहौल, इन इलाकों में जबरदस्त तनाव
Block Election in UP

उत्तर प्रदेश में ब्लाक प्रमुख का चुनाव संपन्न हो चुका है, लेकिन चुनाव के दौरान कई इलाकों में हिंसा देखने को मिली है। बता दें कि आज सूबे में 11 बजे से यहां की 476 क्षेत्र पंचायत की सीटों में अध्यक्ष पद के लिए मतदान होना है। इसके साथ ही यह चुनाव 1,174 उम्मीदवारों के बीच होना है। आज 3 बजे मतदान होने के बाद मतगणना होगी जिसके तत्पश्चात चुनाव परिणाम घोषित किया जाएगा। 

फिरोजाबाद में भाजपाइयों ने सपाइयों को धमकाया

फिरोजाबाद ब्लॉक में मतदान केंद्र के अंदर भाजपा प्रत्याशी द्वारा सपा समर्थक सदस्यों को धमकाने, मारपीट करने और वोट न डालने देने का आरोप है। यह आरोप मतदान केंद्र से बाहर आए सदस्यों ने लगाए हैं। इसके विरोध में सपाइयों ने भाऊ के नगला चौराहे पर नारेबाजी की।

बीडीसी के हाथ से पेपर छीनकर दूसरे ने डाल दिया वोट

लोटन में ब्लॉक प्रमुख चुनाव में शनिवार को लोटन ब्लॉक में मतदान करने गए क्षेत्र पंचायत सदस्य से बैलेट पेपर छीनकर किसी दूसरे ने वोट दिया। बाहर आए क्षेत्र पंचायत सदस्य उमेश ने बताया कि अंदर किसी ने उसे दो थप्पड़ मार दिया। वह कुछ समझ पाते, इसके पहले ही उसने उनका वोट डाल दिया। बाहर निकलने के बाद उमेश ने इसका खुलासा किया। लोटन ब्लॉक में भाजपा प्रत्याशी सुरेंद्र मणि त्रिपाठी एवं निर्दल प्रत्याशी आशीष सिंह मैदान में हैं। जब दूसरे व्यक्ति के वोट डालने की खबर फैली तो ब्लॉक परिसर में हंगामा होने लगा। इस मौके पर पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाए। पुलिस सख्त हुई तो मामला शांत हुआ, जबकि एक प्रत्याशी के समर्थक जिला प्रशासन से कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

संग्रामपुर में गुंडागर्दी पर उतरा पुलिस प्रशासन

अमेठी की भाजपा विधायक गरिमा सिंह के पुत्र व प्रतिनिधि अनंत विक्रम सिंह ने पुलिस प्रशासन पर गंभीर आरोप मढ़ा है। शनिवार को संग्रामपुर ब्लॉक मुख्यालय पहुंचे अनंत ने आरोप लगाया कि यहां भाजपा के ही लोग योगी के प्रशासन की मदद से पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी को हराने में जुटे हैं। पुलिस की मदद से न सिर्फ अधिकृत प्रत्याशी को घंटों रोका गया, वहीं कई बीडीसी सदस्यों को निर्दलीय प्रत्याशी के पक्ष में अगवा कर लिया गया। आरोपों के बाद कार्यकर्ताओं ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इससे नाराज पुलिस ने कार्यकर्ताओं को दौड़ाकर पीटा।