मंगल ग्रह पर होती है तरबूज की खेती! हुआ ऐसा चौंकाने वाला खुलासा 

यूं तो खबरों की इस दुनिया में बेशुमार खबरें आती हैं, लेकिन इस बीच जिस तरह की खबर सामने आई है, उसने सभी के होश फाख्ता करके रख दिए हैं। लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई। किसी के लिए भी इस पर विश्वास करना मुश्किल हो रहा है और यह खबर किसी और ने नहीं, बल्कि न्यूयॉर्क टाइम्स ने खुद प्रकाशित की थी,

मंगल ग्रह पर होती है तरबूज की खेती! हुआ ऐसा चौंकाने वाला खुलासा 
watermelon cultivation in mars

यूं तो खबरों की इस दुनिया में बेशुमार खबरें आती हैं, लेकिन इस बीच जिस तरह की खबर सामने आई है, उसने सभी के होश फाख्ता करके रख दिए हैं। लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई। किसी के लिए भी इस पर विश्वास करना मुश्किल हो रहा है और यह खबर किसी और ने नहीं, बल्कि न्यूयॉर्क टाइम्स ने खुद प्रकाशित की थी, जिसमें यह बताया गया था कि मंगल ग्रह पर तरबूज की खेती होती है और वहां बकायदा इसके खेत भी पाए गए हैं। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद ही लोगों के जेहन में यह सवाल उठने लगा कि क्या मंगल ग्रह पर भी पृथ्वी की तरह तरबूज की खेती होती है? लोग इस बात को जानने के लिए काफी उत्साहित दिखे। यह आर्टिकल न्यूयॉर्क टाइम्स ने छापा था। 

अपनी अदभुद लेखनी के लिए विख्यात न्यूयॉर्क टाइम्स का यह आर्टिकल काफी तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा। लोग इसे पढ़ने के लिए काफी उत्तेजित हुए। मगर, जब बाद में इस पर अतरिक्त जानकारी प्राप्त करने के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स संपर्क किया गया, तो वहां के प्रवक्ता ने इस पर अंतिम प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है।

दरअसल, यह आर्टिकल हमने किसी व्यंग वेबसाइट से लिया था, जिसे प्रकाशित करने का हमारा कोई भी इरादा नहीं था, मगर अफसोस यह गलती से वेबसाइट पर पब्लिश हो गया और देखते ही देखते ही यह इंटनेट की दुनिया में काफी तेजी से वायरल हो गया। लोग इसके बारे में जानने के लिए काफी उत्सुक हो रहे थे कि भला यह कमाल कैसे हो सकता है। मगर, अफसोस इसके पीछे की असल सच्चाई कुछ और रही, जिसके बाद काफी संख्या में पाठक निराश भी दिखे। 

वहीं, कई पाठकों ने जैसे ही आर्टिकल के लिंक पर क्लिक किया, तो उन्हें यह भी लिखा हुआ दिखा कि यह आर्टिकल गलती से पब्लिश हो गया। जिसे लेकर बाद में इसकी विश्वनीयता पर आंच आ रही थी, मगर इसके बावजूद भी लोग इस लेख को पढ़ने के लिए काफी उत्सुक दिखें। हालांकि, न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा कि हमने अब इस आर्टिकल को हटा लिया है, क्योंकि  इससे काफी संख्या में लोगों के जेहन में संशय पैदा हो रहा है।