चुनाव से पहले बीजेपी का आखिर क्या है कोरोना प्लान? जानिए 

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान जिस प्रकार से विपक्ष और खासकर राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को आड़े हाथो लिया था। उसके मध्यनजर अब मोदी सरकार तीसरी लहर के लिए कमर कसती हुई नजर आ रही है।

चुनाव से पहले बीजेपी का आखिर क्या है कोरोना प्लान? जानिए 
CM Yogi

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान जिस प्रकार से विपक्ष और खासकर राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को आड़े हाथो लिया था। उसके मध्यनजर अब मोदी सरकार तीसरी लहर के लिए कमर कसती हुई नजर आ रही है।

यूपी में आगामी 2022 विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी यूपी के लगभग 68 हजार गांव-वार्डों में कोरोना की तीसरी लहर के बचाव के लिए स्वयंसोवकों की तैनाती करने जा रही है। जिसमें कि 56 हजार गांव व 12 हजार वार्ड होंगे जाहां कोरोना की संभावित तीसरी लहर के लिए जागरुकता अभियान चलाया जाएगा। पार्टी ने इस काम को पूरा करने के लिए 20 जून तक का समय रखा है।

दूसरी लहर पर केंद्र पर हुए जमकर हमले

इसको कई मायनों यूपी के चुनाव से जोड़ कर देखा जा रहा है। गौरतलब है कि बीजेपी कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बैकफूट में नजर आती हुई दिख रही थी। क्योंकि माना जा रहा था कि केंद्र की मोदी सरकार दूसरी लहर को काबू करने में नाकानयाब रही, जिसके लिए विपक्ष सरकार पर हमला करने व उसको आड़े हाथों लेने मे कामयाब रही। इस दौरान कांग्रेस के सांसद राहुल गांधी ने बार-बार केंद्र सरकार पर निशाना साधा था।

क्या है कार्यक्रम?

बीजेपी राज्य इकाई की प्रदेश कार्यसमिति ने एक बैठक का आयोजन किया। इस बैठक में उत्तर प्रदेश में संभावित कोरोना की तीसरी लहर के लिए पार्टी ने पूरे प्रदेश में घर-घर जाकर कोरोना के लिए लोगों को जागरूक व इससे संबंधित साहयता करने का फैसला लिया। इस बैठक का उद्घाटन बाजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने किया जबकि समापन सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा किया गया।

कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए यूपी भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुनिल बंसल के जानकारी देते हुए बताया कि अगले कुछ दिनों में जिला तथा मंडल स्तर पर कार्यक्रम समिति की बैठक होगी और कोविड की संभावित तीसरी लहर के लिए पार्टी स्वास्थ्य स्वयं सेवक तैयार करेगी, जो कि गांव, वार्ड, मोहल्ले में जाकर लोगों की साहयता करेंगे। सुनिल बंसल ने इसके बाद बताया कि प्रदेश के 56 हजार गांव और 12 हजार वार्ड में एक युवा तथा एक महिला स्वास्थ्य स्वयंसेवक के तौर पर काम करेंगे और स्वास्थ्य स्वयंसेवक बनाने का काम 20 जुलाई तक पूरा कर लिया जाएगा।