किसने दिया निर्भया को इंसाफ और दोषियों को फांसी ?

जिस तरह 16 दिसंबर 2012 की रात इतिहास में काले शब्द में दफन है, वैसे ही 20 मार्च 2020 की सुबह इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखी जाएगी. यह वहीं दिन है जब निर्भया को इंसाफ मिला, निर्भया की मां की जीत हुई और देश में जश्न बना

किसने दिया निर्भया को इंसाफ और दोषियों को फांसी ?

जिस तरह 16 दिसंबर 2012 की रात इतिहास में काले शब्द में दफन है, वैसे ही 20 मार्च 2020 की सुबह इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखी जाएगी. यह वहीं दिन है जब निर्भया को इंसाफ मिला, निर्भया की मां की जीत हुई और देश में जश्न बना. इसी दिन देश के चार घरों में मातम पसर गया. किसी का बेटा, किसी का भाई, किसी के पिता तो किसी के पति उन्हें छोड़कर चले गए. लेकिन इन दोषियों को सजा और निर्भया को फांसी देने वाले पवन जल्लाद फांसी देने के बाद काफी खुश थे.

पवन जल्लाद का कहना है कि फांसी दिए जाने के एवज में मिलने वाले पैसे से वो अपनी बेटी की शादी करेंगे. बता दें कि इस मामले में पहले 3 बार डेथ वॉरेंट जारी किया गया था. लेकिन तीनों बार दोषियों को सजा से बचा लिया गया. लेकिन 22 जनवरी को जारी हुए डेथ वॉरेंट पर जल्लाद पवन ने कहा था कि ऐसा पहली बार होगा जब वो एक साथ 4 लोगों को फांसी देंगे और उनको इसके एवज में एक लाख रूपये की मोटी रकम मिलेगी. इतने पैसे भी वो पहली बार देखेंगे. साथ ही कहा था कि मेहनताने से हासिल होने वाली रकम से अपनी बेटी की शादी करेंगे. 

बता दें कि हमारे देश में अभी 2 ही जल्लाद हैं, जिनमें से पवन को इन दोषियों को फांसी देने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. पवन अपने घर से पहले नहीं है जो जल्लाद के रूप में काम कर रहे हैं, बल्कि उनके पापा, दादा और परदादा भी देश में जल्लाद के रूप में काम कर चुके हैं. रंगा-बिल्ला लेकर इंदिरा गांधी के हत्यारे तक को पवन के दादा ने फांसी दी थी. वहीं अब पवन ने इन दोषियों को फांसी दी हैं.