सिगरेट करेगी क्या कोरोना का इलाज ?

कोरोना महामारी को फैले बहुत समय हो गया है, लेकिन उसके बाद भी इसे रोकने के लिए कोई टीका या दवा की खोज नहीं हो पाई. दुनियाभर के शोधकर्ता वैक्सीन टेस्ट में जुटे हैं.

सिगरेट करेगी क्या कोरोना का इलाज ?
सिगरेट करेगी क्या कोरोना का इलाज ?

इन सबके बीच फ्रांसीसी शोधकर्ताओं का दावा है कि संक्रमण स्मोकिंग करने वालों की तुलना में नॉन स्मोकर्स में तेजी से फैलता है, इसलिए वायरस की रोकथाम में निकोटीन काफी मददगार साबित हो सकता है. शोधकर्ता फ्रांस सरकार की अनुमति से निकोटीन पर शोध भी करना चाहते हैं.

ये हैं एक्सपर्ट्स का मानना

निकोटीन का यूज कोरोना वायरस को शरीर की अन्य भागों तक पहुंचने में रोक सकता है. अध्ययन की समीक्षा करने वाले प्रसिद्ध फ्रांसीसी न्यूरोबायोलॉजिस्ट ज्यां-पिया शांजू ने सुझाव दिया है कि निकोटीन कोरोना वायरस को शरीर की अन्य कोशिकाओं तक पहुंचने से रोक सकता है. निकोटीन शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करने की प्रक्रिया को भी धीमा कर सकता है. जो कोविड-19 संक्रमण का सबसे गंभीर पक्ष है.

रिसर्च के नतीजे हैं बाकी

शोध का सत्यापन अंतिम चरण में सरकार की अनुमति के बाद क्लीनिकल टेस्ट किया जाएगा. शांजू के मुताबिक अभी तक की जो केस स्टडी सामने आई है, उसके अनुसार निकोटीन वाकई कोरोना के रोकथाम में मुख्य भूमिका निभा सकता है. जो लोग हर दिन धूम्रपान करते हैं, उनमें सामान्य लोगों की तुलना में कोविड-19 के गंभीर संक्रमण विकसित होने की संभावना बहुत कम होती है.

पहले भी हुआ है दावा

मार्च में प्रकाशित चीनी रिपोर्ट भी इसी ओर इशारा करती है. मार्च के अंत में ‘न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन’ में प्रकाशित एक चीनी अध्ययन में भी इस बात की पुष्टि होती है. इसमें भी बताया गया था कि चीन में कोरोना से संक्रमित 1,000 लोगों में से केवल 12.6% धूम्रपान करने वाले थे, जबकि चीन में धूम्रपान करने वालों की संख्या लगभग 28% है. यह फैक्ट इस बात की ओर इशारा करता है कि नॉन स्मोकर्स में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैलता है.